गुरुवार, 19 अक्तूबर 2017

The crazy science of what happens when two neutron stars collide

The crazy science of what happens when two neutron stars collide

We may have witnessed the birth of a black hole for the first time. And that's just the start. Science, you've done it again

About 130 million years ago, two stars measuring 12 miles across but containing more mass than held in our Sun were locked together. They were spiralling together, in a relatively rare event that lasted only a few seconds and likely ended up with the creation of a black hole. But the event sent out a signal, in the form of gravitational waves and light. It also made a sound. Not a bang, but a kind of whizz-bang chirpy pop.
At the exact time this happened, dinosaurs roamed on planet Earth. When the signals from the merging neutron stars were about half way on their journey towards Earth, an asteroid struck our planet, killing off 75 per cent of all species.
Over the last five per cent of the gravitational waves’ journey, humans evolved, learnt how to use tools, developed civilisations and started looking to the skies with wonder.
Just 100 years ago, one human predicted the impact such colossal events would have on spacetime. Now we can detect them.
On the August 17, the Ligo team detected the ripples in spacetime given off by one of the most dramatic events that occur in our Universe; the merging of these two neutron stars.
When Ligo’s twin detectors, in Louisiana and Washington state, first saw the tremors in spacetime, they alerted astronomers across the globe. Within hours, 70 telescopes, both in space and on Earth, were pointing towards the galaxy 130 million light years away.
Two seconds after Ligo watched this happen, the Fermi space telescope spotted a burst of gamma rays – and putting the two signals together, the chance of a coincidence was tiny. Within an hour, a third detector called Virgo, near Pisa in Italy, had confirmed the signal, and helped narrow down the section of the sky the signal had come from.
Scientists could tell this wasn't a pair of black holes, since the masses of the two swirling objects were between 1 and 1.6 times the mass of our Sun.
"It immediately appeared to us the source was likely to be neutron stars, the other coveted source we were hoping to see—and promising the world we would see," says David Shoemaker, spokesperson for the Ligo Scientific Collaboration and senior research scientist in MIT's Kavli Institute for Astrophysics and Space Research.
Another big difference between the black hole merger events and this one is the time it takes. Black hole mergers are much faster, with gravitational waves only lasting a fraction of a second. In this case, the ripples could be seen for 100 seconds.
The first gravitational waves were detected by Ligo as the neutron stars swirled around each other, coming closer and closer. From passing about 30 times each second, the pair reached a point around 100 seconds later when they were swirling 2,000 times each second.
After that, there was a short pause when nothing was detected by Ligo. Then, the stars violently collided, most likely creating a black hole; making this, probably, the first time we have witnessed a black hole being made.
The violent burst gave off not only gravitational waves, but also a short burst of gamma rays, and light in a huge range of the electromagnetic spectrum. Short gamma ray bursts have been seen before, and it was thought they were created by neutron star mergers. But this is the first time it’s been confirmed.
“We detected the gamma ray burst just because it was so close and the immediate hint about its small distance came from the gravitational wave detection, which told us it was produced by a nearby neutron star merger,” says Elena Pian, from the Instituto Nazionale di Astrofisica, Bologna.
Hours later, after the astronomy community had been alerted, telescopes over the world and in space were pointing towards the remaining blob. Studying light coming from the blob showed it contained rare elements such as gold and platinum, confirming theories of how these heavier elements are formed.
What was left after the burst is not completely known. It is probably a black hole, because neutron stars heavier than twice the mass of our Sun have never been seen. “It’s [probably] the first observation of a black hole being created where there was none before, which is pretty darn cool,” Shoemaker says.
The discovery has been heralded by many as the start of a new era of astrophysics, focussed on multi-messenger gravitational astrophysics. From now on it is hoped gravitational and electromagnetic observatories will continue to work together to look at the same source, recreating the incredible global effort put into this discovery.
It is hoped gravitational waves may be a way to explain a lot of mysteries. These include why the Universe is expanding at an accelerating rate, and the composition of dark energy, an elusive, mysterious substance that makes up roughly 70 per cent of the Universe.
“This is a whole new window into the Universe,” says Marcelle Soares-Santos, assistant professor of physics at Brandeis University. “This is beyond my wildest dreams.”
Refrence:http://www.wired.co.uk/article/what-happens-when-two-neutron-stars-collide

जीवन की निष्कामता ,निरंतरता और नश्वरता की दीक्षा भी देते हैं सितारे

जीवन की निष्कामता ,निरंतरता और नश्वरता की  दीक्षा  भी देते हैं सितारे

 सितारों का  जन्म  इनके आसपास फैले धूल  एवं गैस के बादलों से ही कालान्तर में होता है जो इनके अपने पूर्वजों के अवशेष रूप हाइड्रोजन ,हीलियम और अल्पांश रूप सभी गैसों के तनुकृत रूप में व्याप्त हैं। अंतरिक्ष का कोई भी भाग इससे शून्य नहीं है भले एक घनमीटर भाग में एक ही हाइड्रोजन का अणु या परमाणु हो।

और हाँ ! वृक्षों की तरह खुद अपनी ही खाद बन जाते हैं सितारे।

इनका जन्म ही तब होता है जब कोई विक्षोभ कहीं से चलकर कहीं पहुँच जाता है। फिर भले उसका उद्गम स्रोत सुदूर अतीत में हुआ चाहे कोई सुपरनोवा विस्फोट रहा हो  या चुंबकीय विक्षोभ। बस गुरुत्वीय आकर्षण से बादल अपने कलेवर को बढ़ाता जाता है तब तक जब तक के इसकी एटमी भट्टी सुलगने न लगे और ऐसा तब होता है जब एक संतुलन इसके अपने केंद्र  की ओर  के गुरुत्वीय संकोचन (ग्रेविटेशनल कोलेप्स से पैदा )और बाहर की ओर  काम करते विकिरण दाब में रेडिएशन प्रेशर में न हो जाए। बस यही प्रसवकाल है सितारे का।

जो अपनी लीला भुगता कर अपने हिस्से का ईंधन हज़म कर चल देता है गोलोक।

कबीर के अंदाज़ में :

'दास कबीर जतन करि  ओढ़ी ,ज्यों की त्यों धर दीन्हीं चदरिया '

https://www.speakingtree.in/blog/yogic-meaning-of-popular-kabir-bhajan

जीवन की निष्कामता ,निरंतरता और नश्वरता की दीक्षा भी देते हैं सितारे

जीवन की निष्कामता ,निरंतरता और नश्वरता की  दीक्षा  भी देते हैं सितारे

 सितारों का  जन्म  इनके आसपास फैले धूल  एवं गैस के बादलों से ही कालान्तर में होता है जो इनके अपने पूर्वजों के अवशेष रूप हाइड्रोजन ,हीलियम और अल्पांश रूप सभी गैसों के तनुकृत रूप में व्याप्त हैं। अंतरिक्ष का कोई भी भाग इससे शून्य नहीं है भले एक घनमीटर भाग में एक ही हाइड्रोजन का अणु या परमाणु हो।

और हाँ ! वृक्षों की तरह खुद अपनी ही खाद बन जाते हैं सितारे।

इनका जन्म ही तब होता है जब कोई विक्षोभ कहीं से चलकर कहीं पहुँच जाता है। फिर भले उसका उद्गम स्रोत सुदूर अतीत में हुआ चाहे कोई सुपरनोवा विस्फोट रहा हो  या चुंबकीय विक्षोभ। बस गुरुत्वीय आकर्षण से बादल अपने कलेवर को बढ़ाता जाता है तब तक जब तक के इसकी एटमी भट्टी सुलगने न लगे और ऐसा तब होता है जब एक संतुलन इसके अपने केंद्र  की ओर  के गुरुत्वीय संकोचन (ग्रेविटेशनल कोलेप्स से पैदा )और बाहर की ओर  काम करते विकिरण दाब में रेडिएशन प्रेशर में न हो जाए। बस यही प्रसवकाल है सितारे का।

जो अपनी लीला भुगता कर अपने हिस्से का ईंधन हज़म कर चल देता है गोलोक।

कबीर के अंदाज़ में :

'दास कबीर जतन करि  ओढ़ी ,ज्यों की त्यों धर दीन्हीं चदरिया '

https://www.speakingtree.in/blog/yogic-meaning-of-popular-kabir-bhajan


Jhini jhini bini chadariya.
kah ke tana, kah ke bharni, kaun taar se bini chadariya
ingla pingla taana bharni, sushumna tar se bini chadariya.
ashta kamal dal charkha doley, panch tatva, gun tini chadariya
saiin ko siyat mas dus lagey, thonk-thonk ke bini chadariya.

https://thinkloud65.wordpress.com/2011/10/03/jhini-jhini-bini-chadariya-kabir/


11 Votes



Jhini jhini bini chadariya.
kah ke tana, kah ke bharni, kaun taar se bini chadariya
ingla pingla taana bharni, sushumna tar se bini chadariya.
ashta kamal dal charkha doley, panch tatva, gun tini chadariya
saiin ko siyat mas dus lagey, thonk-thonk ke bini chadariya.
so chaadar sur nar muni odhi, odhi ke maili kini chadariya
das Kabir jatan kari odhi, jyon ki tyon dhar deeni chadariya.
The Lord Supreme has woven a very fine and delicate tapestry,free of impurities of any kind!
What refined and subtle yarn, what complex interlacing, He has used to weave it!
Using veins and breath His threads Twenty four hours on end,His spinning wheel turns, 
Weaving the tapestry from all five essential elements.
Ten months does it take the Lord to weave his tapestry,
Using the greatest of craftsmanship, care and skill.
That exquisite tapestry is worn by the celestials,by Saints, and by human beings alike.
But they all invariably have defiled it !
Your humble devotee Kabir has worn it scrupulously and meticulously,
And is returning it to You, O’Lord, unblemished and pure !

कह सकते हैं कुदरत की बख्शीश अप्रतिम फैक्ट्री हैं सितारों की एटमी भट्टी

ये मात्र आकस्मिक नहीं है कि फ्यूज़न (संग्लन )की वह क्रिया जो सूर्य एवं ऐसे ही खरबों -खरब सितारों की एटमी भट्टी में चल रही है वह उत्तरोत्तर अभिनव और अपेक्षाकृत भारी तत्व भी बनाती चलती है।शुरुआत हाइड्रोजन के ईंधन रूप में जलने से होती है जैसा कि हमारे सूर्य में इस समय भी हो रहा है जिसके फलस्वरूप अपेक्षाकृत भारी तत्व हीलियम बनता है। लेकिन यह सिलसिला सिर्फ यहीं नहीं थमता है।हीलियम हायड्रोजन ईंधन से भारी होने की वजह से कोर में डूबने लगता है।

हीलियम सितारे की कोर (केंद्रीय भाग )में जमा होने लगती है भारी होने की वजह से। आखिर में यही हीलियम कोर ही शेष रह जाती है। अब ईंधन के रूप में हीलियम ही उपलब्ध है जो जलकर कार्बन बना सकती  है। क्योंकि हीलियम के जलने से और भी ज्यादा एनर्जी निकलती है। इसी प्रकार कार्बन भी ईंधन के रूप में सुलग फुंककर पहले से अब और भी ज्यादा ऊर्जा निर्गमित करती है (उत्सर्जित करती है, एमिट करती है ) ,इस प्रकार एक के बाद एक अपक्षाकृत भारी तत्वों का निर्माण सितारों की एटमी भट्टी में होता जाता है।जैसे ये कुदरत के सबसे बड़े रासायनिक कारखाने हो निगम हों ,अन्तर-ब्रह्मांडीय।

कह सकते हैं कुदरत की बख्शीश  अप्रतिम फैक्ट्री हैं सितारों की एटमी भट्टी। 

क्या अनंत काल तक चलता है चल सकता है यह सिलसिला ?

लोहा (लौहतत्व आयरन )के बनने पर ऊर्जा निर्गमित नहीं होती है ,एटमी भट्टी बुझने लगती है ,आयरन की कोर पनपने लगती है ,अब एक ऐसी स्थिति आती है जब यह कोर अपने ऊपर ही फोल्ड होने लगती है गुरुत्व के बोझ (केंद्र की तरफ  खिचाव )तले दबने खपने लगती है।अब तापमान सौर तापमान का भी सौ गुना हो सकता है। ऐसा होने पर यदयपि ऐसा बिरले ही होता है ,कोर भारी विस्फोट के साथ फट जाती है।एक शोक वेव दौड़ती है सितारे के बचे खुचे भाग से इसके तले  रौंदे कुचले जाकर  आसपास के अंतरिक्ष में गोल्ड ,प्लेटिनम ,लेड के भी आयन (आवेशित एटम ,चार्जड एटम )बन सकते हैं।

कहा जा सकता है पृथ्वी की कोख में वर्तमान स्वर्ण की खाने सुदूर अंतरिक्ष की सौगातें ही हैं ,जो किसी सुपरनोवा विस्फोट का पृथ्वी को दिया हुआ बेशकीमती तोहफा हैं।

यहां भी सृष्टि का 'पुनरपि जन्मम ,पुनरपि मरणम ' यानी ऊर्जा संरक्षण सिद्धांत काम कर रहा है। एक सितारा मरा है बहुत कुछ सौगातें दे गया है अपने अवशेष के रूप में जिससे आगे और भी सितारे बनेगें जिनकी कोर से भारी तत्व ही पैदा होवेंगे।

जीवन भी अंतरिक्ष की इन (आसमानी सुल्तानों ),सुल्तानी ताकतों से ही पृथ्वी पर आया है।हमारे शरीर में भी अल्पांश में ही सही इन तत्वों की दस्तक देखी  जा सकती है।

बहुचर्चित खोज जो विज्ञान पत्रिकाओं की सुर्खी बनी है -किसी सुपरनोवा विस्फोट का ही योगदान है।

'Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements'


इन आसमानी ताकतों की ही बख्शीश है। 

विशेष :यह इस श्रृंखला की आखिरी कड़ी थी। यानी 

'Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements'(हिंदी )चौथी और अंतिम क़िस्त )




सन्दर्भ -सामिग्री :

(१ )http://hubblesite.org/reference_desk/faq/answer.php.id=30&cat=stars

(२ )http://spider.ipac.caltech.edu/staff/vandyk/supernova.html

(३ )https://www.youtube.com/watch?v=QfNqBKAvkpw

(४ )https://www.youtube.com/watch?v=tXV9mtY1AoI
(५  )https://www.infoplease.com/science-health/universe/birth-and-death-star

'Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements'(हिंदी )चौथी और अंतिम क़िस्त )

ये मात्र आकस्मिक नहीं है कि फ्यूज़न (संग्लन )की वह क्रिया जो सूर्य एवं ऐसे ही खरबों -खरब सितारों की एटमी भट्टी में चल रही है वह उत्तरोत्तर अभिनव और अपेक्षाकृत भारी तत्व भी बनाती चलती है।शुरुआत हाइड्रोजन के ईंधन रूप में जलने से होती है जैसा कि हमारे सूर्य में इस समय भी हो रहा है जिसके फलस्वरूप अपेक्षाकृत भारी तत्व हीलियम बनता है। लेकिन यह सिलसिला सिर्फ यहीं नहीं थमता है।हीलियम हायड्रोजन ईंधन से भारी होने की वजह से कोर में डूबने लगता है।

हीलियम सितारे की कोर (केंद्रीय भाग )में जमा होने लगती है भारी होने की वजह से। आखिर में यही हीलियम कोर ही शेष रह जाती है। अब ईंधन के रूप में हीलियम ही उपलब्ध है जो जलकर कार्बन बना सकती  है। क्योंकि हीलियम के जलने से और भी ज्यादा एनर्जी निकलती है। इसी प्रकार कार्बन भी ईंधन के रूप में सुलग फुंककर पहले से अब और भी ज्यादा ऊर्जा निर्गमित करती है (उत्सर्जित करती है, एमिट करती है ) ,इस प्रकार एक के बाद एक अपक्षाकृत भारी तत्वों का निर्माण सितारों की एटमी भट्टी में होता जाता है।जैसे ये कुदरत के सबसे बड़े रासायनिक कारखाने हो निगम हों ,अन्तर-ब्रह्मांडीय।

कह सकते हैं कुदरत की बख्शीश  अप्रतिम फैक्ट्री हैं सितारों की एटमी भट्टी। 

क्या अनंत काल तक चलता है चल सकता है यह सिलसिला ?

लोहा (लौहतत्व आयरन )के बनने पर ऊर्जा निर्गमित नहीं होती है ,एटमी भट्टी बुझने लगती है ,आयरन की कोर पनपने लगती है ,अब एक ऐसी स्थिति आती है जब यह कोर अपने ऊपर ही फोल्ड होने लगती है गुरुत्व के बोझ (केंद्र की तरफ  खिचाव )तले दबने खपने लगती है।अब तापमान सौर तापमान का भी सौ गुना हो सकता है। ऐसा होने पर यदयपि ऐसा बिरले ही होता है ,कोर भारी विस्फोट के साथ फट जाती है।एक शोक वेव दौड़ती है सितारे के बचे खुचे भाग से इसके तले  रौंदे कुचले जाकर  आसपास के अंतरिक्ष में गोल्ड ,प्लेटिनम ,लेड के भी आयन (आवेशित एटम ,चार्जड एटम )बन सकते हैं।

कहा जा सकता है पृथ्वी की कोख में वर्तमान स्वर्ण की खाने सुदूर अंतरिक्ष की सौगातें ही हैं ,जो किसी सुपरनोवा विस्फोट का पृथ्वी को दिया हुआ बेशकीमती तोहफा हैं।

यहां भी सृष्टि का 'पुनरपि जन्मम ,पुनरपि मरणम ' यानी ऊर्जा संरक्षण सिद्धांत काम कर रहा है। एक सितारा मरा है बहुत कुछ सौगातें दे गया है अपने अवशेष के रूप में जिससे आगे और भी सितारे बनेगें जिनकी कोर से भारी तत्व ही पैदा होवेंगे।

जीवन भी अंतरिक्ष की इन (आसमानी सुल्तानों ),सुल्तानी ताकतों से ही पृथ्वी पर आया है।हमारे शरीर में भी अल्पांश में ही सही इन तत्वों की दस्तक देखी  जा सकती है।

बहुचर्चित खोज जो विज्ञान पत्रिकाओं की सुर्खी बनी है -किसी सुपरनोवा विस्फोट का ही योगदान है।

'Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements'


इन आसमानी ताकतों की ही बख्शीश है। 

विशेष :यह इस श्रृंखला की आखिरी कड़ी थी। यानी 

'Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements'(हिंदी )चौथी और अंतिम क़िस्त )




सन्दर्भ -सामिग्री :

(१ )http://hubblesite.org/reference_desk/faq/answer.php.id=30&cat=stars

(२ )http://spider.ipac.caltech.edu/staff/vandyk/supernova.html

(३ )https://www.youtube.com/watch?v=QfNqBKAvkpw

(४ )https://www.youtube.com/watch?v=tXV9mtY1AoI

बुधवार, 18 अक्तूबर 2017

Scientists discover neutron star collisions produce gold, platinum and other elements

  • Scientists detected gravitational waves from the collision of two neutron stars.
  • They also saw light, for the first time.
  • The project was the collaboration between 70 institutions including LIGO and Virgo.
Scientists have detected the collision of two neutron stars for the first time in history, yielding new insights into physics, the structure of the universe, and the origin of elements such as gold and platinum.

Researchers from several institutions detected the evidence 130 million light years away on Aug. 17. They announced the discovery Monday.
The collision was detected both through gravitational waves and through telescopes, which has never been done before. The combination of these two different types of data solves many long-standing puzzles and opens the door to a whole new kind of astronomy.
"This is an amazing, amazing discovery," said David Reitze, executive director, LIGO Laboratory/Caltech, told reporters at a news conference in Washington, D.C., on Monday.

Scientists have detected the collision of two neutron stars for the first time in history, yielding new insights into physics, the structure of the universe, and the origin of elements such as gold and platinum.
Researchers from several institutions detected the evidence 130 million light years away on Aug. 17. They announced the discovery Monday.
The collision was detected both through gravitational waves and through telescopes, which has never been done before. The combination of these two different types of data solves many long-standing puzzles and opens the door to a whole new kind of astronomy.
"This is an amazing, amazing discovery," said David Reitze, executive director, LIGO Laboratory/Caltech, told reporters at a news conference in Washington, D.C., on Monday.
The gravitational waves were first detected by the Virgo interferometer in Europe, then by both Laser Interferometer Gravitational-Wave Observatory (LIGO) locations in Louisiana and Washington state milliseconds later. LIGO is also the place where gravitational waves have been previously detected. Three scientists from LIGO won the 2017 Nobel Prize in physics for earlier work on the project.
At around the same time, NASA's Fermi telescope picked up a short gamma-ray burst — a pulse of light from the explosion made as the neutron stars merged.
Neutron stars are extremely dense bodies made purely of neutrons and produced by the explosion of supernovae. They have about 1.5 times the mass of the sun, crushed into a body about the size of a medium-sized city, such as San Francisco. Scientists had theorized that these bodies merged, but this is the first time they have ever been spotted.
This is like a cosmic-scale atom smasher of energies far beyond what humans will ever be capable of building," said Andy Howell, a staff scientist at Las Cumbres Observatory/UC Santa Barbara.
The findings are numerous. Using the data, LIGO and Virgo scientists have developed a new method for using the gravitational wave signals to measure the rate at which the universe is expanding, something scientists have been trying to do for a long time.
"So welcome to the new era of gravitational wave cosmology," said Laura Cadonati, associate professor at School of Physics Georgia Institute of Technology.
They also discovered that the gravitational waves travel at the speed of light, something Albert Einstein predicted about a century ago.
The discovery also showed that the collisions of neutron stars produce neutron-rich heavy elements, something astronomers had suspected.
"This result provides definitive evidence for the first time that elements such as platinum, gold, and uranium are actually produced in these collisions," Reitze said.
Holding up his grandfather's pocket watch, Reitze said the gold in the watch was "very likely" produced by the collision of two neutron stars.
Findings have been published in several scientific journals, including Science, Nature, Physical Review Letters and The Astrophysical Journal, said NASA in a news release.

Reference :https://www.cnbc.com/2017/10/16/scientists-discover-neutron-star-collisions-make-gold-other-elements.html

Astronomers Strike Gravitational Gold In Colliding Neutron Stars(Hindi Part lll)


गुरुत्वीय तरंग टोहक चौबीस घंटों तैनात खड़े  अपना काम करते रहते हैं

जो घटना आप आज देख रहें हैं जिसे 'लाइगो 'LIGO तथा VIRGO ने दर्ज़ किया है यह उन दो न्यूट्रॉन स्टार्स की टक्कर है जो तकरीबन एक सांझा केंद्र के गिर्द घूमते हुए परस्पर एक दूसरे के करीब आते गए ,और तब जाकर अब से कोई तेरह करोड़ बरस पहले वह स्थिति पैदा हो सकी जिसे कॉस्मिक शब्दावली में दो न्युट्रोनोंका परस्पर मिलन मनाना या टकराना कहते हैं।

इसी विस्फोटक घटना ने घुमावदार अंतरिक्ष -काल  की फेब्रिक या बुनावट में एक ऐसा विक्षोभ पैदा किया जिसके फलस्वरूप अंतरिक्षकाल में गुरुत्वीय तरंगें पैदा हुईं जिन्हें दूरदारज की अमरीका स्थित वैधशाला 'लेज़र इंटरफेरोमीटर ग्रेविटेशनल वेव ऑब्ज़र्वेटरी ने दर्ज़ किया था १७ अगस्त २०१७ को प्रात : आठ बजकर इकतालीस मिनिट पर  पूरबी समय जोन के मुताबिक़। अमरीका में चार टाइम जोन्स हैं जिनके समय में परस्पर अंतराल है। भारत अमरीका के बनिस्पत एक भौगोलिक क्षेत्र के हिसाब से अपेक्षाकृत छोटा देश है जिसके लिए एक ही मानक समय है (इलाहाबाद के पास नैनी स्थल के स्थानीय समय को ही भारतीय मानक समय (IST )कहा जाता है। ).

लाइगो ने जो दर्ज किया है वह दृश्य क्षेत्र में है इसलिए ब्लेक होल्स के होने परस्पर टकराने की इत्तला नहीं हो सकती ,अलबत्ता न्यूट्रॉन सितारे  दृश्य  क्षेत्र में विकिरण निसृत करते हैं ,एमिट करते हैं ,रेडिएट करते हैं छोड़ते हैं। इसे ही 'लाइगो'
और 'वर्गो' ने  देखा है। इससे ठीक दो सेकिंड पहले नासा के अंतरिक्ष में उपग्रह की तरह पृथ्वी की कक्षा में भ्रमण करते एक टेलिस्कोप ने भी इस घटना को देखा है।

इटली के स्थित गुरुत्वीय तरंग टोहक उपकरण  'वर्गों 'के अनुसार यह घटना प्रधान क्षेत्र अंतरिक्ष के दक्षिणी भाग में  रहा है अंतरिक्ष का वह भाग जहां के खगोल विज्ञान के माहिर बेंजामिन शप्पी उस समय गहन निद्रा  में थे। काश इस समय वह भी वैधशाला में होते।

अलबत्ता उनके स्मार्ट फोन पर ई -मेल्स का सैलाब आया हुआ था। आप कार्नेगी वैधशाला में फेलो रहे हैं तथा हवई विश्विद्यालय में  प्रोफेसर रहे आये हैं। अपने साथियों के साथ इसी पेशोपश में घंटो बने रहे किस नीहारिका को किस दूरबीन से निहारा जाए ताकि नए मेहमानों   को देखा जा सके।अंतरिक्ष में घटित उनकी लीला का पार पाया जा सके।

गुरुत्वीय तरंग टोहक चौबीस घंटों तैनात खड़े  अपना काम करते रहते हैं। इनके गुरुत्वीय तरंगों को टोहने के बाद तकरीबन ग्यारह घंटे ही अभी बीते होंगें   खगोल विज्ञान के माहिर आगे बढ़के इस घटना का ज़ायज़ा ले रहे थे।इधर कार्नेगी टीम भी हरकत में आ चुकी थी। वक्त बहुत कम था और काम बहुत महत्वपूर्ण चूक के लिए अवकाश नहीं था। अब तक के जीवन का असली अनुभव था उनके लिए अद्भुत और मनोरम। तकरीबन सत्तर खगोलीय दूरबीनें इस अप्रतिम घटना को देख रहीं थीं  अनुमान है इस घटना में पृथ्वी की कुलद्रव्य राशि से दो सौ गुना स्वर्ण तथा ५०० गुना बेशकीमती प्लेटिनम पैदा हुआ है।

सन्दर्भ -सामिग्री :

(१ )Reference:
(1 )http://www.npr.org/sections/thetwo-way/2017/10/16/557557544/astronomers-strike-gravitational-gold-in-colliding-neutron-stars?utm_source=npr_newsletter&